प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट परिवार

सूचनाएं एवं समाचार

प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट द्वारा प्रसारित समस्त सूचनाएँ यहाँ प्राप्त होंगीं।

आखिल भारतीय युवा कहानीकार अलंकरण -2022 हेतु विज्ञप्ति

*विज्ञप्ति*   पत्रांक – अ16/क21/314 दिनांक – 31 जुलाई 2022   प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट के वरिष्ठ सलाहकार श्री पूरनचंद्र गुप्ता जी की पत्नी *श्रीमती निशा रानी गुप्ता स्मृति “आखिल भारतीय युवा कहानीकार अलंकरण -2022″* हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित हैं।   *अलंकरण राशि =11000₹*   नोट :- उपर्युक्त अलंकरण ट्रस्ट

पूरी सूचना पढ़ें »

पंचम गीतश्री अलंकरण-2023 के प्रथम चरण के तृतीय माह हेतु विषय संबंधी विज्ञापन

पत्रांक:- अ16/क21/315 दिनांक- 02/08/2022   *विज्ञप्ति* पाँचवे *सृजन श्री अलंकरण- 2023* हेतु आयोजित *सृजन* परंपरा गीत की *गीत सृजन प्रतियोगिता*   *प्रथम-चरण* *तृतीय-माह:-* (अगस्त – 2022) अगस्त माह का विषय:- *प्रेम पाश* गीत भेजने की अंतिम तिथि:- 20 अगस्त 2022   मूल्यांकन समिति अध्यक्ष/मुख्य निर्णायक *डॉ. अजिर बिहारी चौबे* (मनोविज्ञान

पूरी सूचना पढ़ें »

जुलाई माह की गीत प्रतियोगिता का परिणाम

प्रज्ञा हिंदी सेवा संस्थान ट्रस्ट फिरोजाबाद द्वारा आयोजित पाँचवी अखिल भारतीय गीत सृजन प्रतियोगिता – 2023 के प्रथम चरण के द्वितीय माह (जुलाई 2022) हेतु दिए गए गीत विषय *उपकार* पर प्राप्त प्रविष्टियों के मूल्यांकन के पश्चात प्राप्त परिणाम *कोड* *स्थान* 11 प्रथम 06 द्वितीय 04 तृतीय 09 तृतीय हस्ताक्षर

पूरी सूचना पढ़ें »

चतुर्थ सृजनश्री अलंकरण-2022″ हेतु आयोजित “सृजन परंपरा गीत की….गीत सृजन प्रतियोगिता” के द्वितीय चरण (अप्रैल-2022) का परिणाम

  सुकवि मथुरा प्रसाद मानव स्मृति “चतुर्थ सृजनश्री अलंकरण-2022” हेतु आयोजित “सृजन परंपरा गीत की….गीत सृजन प्रतियोगिता” के द्वितीय चरण (अप्रैल-2022) का परिणाम विषय – युद्ध प्रथम – कोड संख्या – 2 शब्द शब्द सँजीवनी मेरे , मैं जीवन लौटाता हूँ , समर भूमि में अड़ा हुआ हूँ , राग

पूरी सूचना पढ़ें »

विज्ञप्ति- चतुर्थ सृजन श्री अलंकरण- 2022 हेतु आयोजित सृजन परंपरा गीत की गीत सृजन प्रतियोगिता- द्वितीय चरण

पत्रांक:- अ16/क21/299 दिनांक- 01/04/2022 विज्ञप्ति चतुर्थ सृजन श्री अलंकरण- 2022 हेतु आयोजित सृजन परंपरा गीत की गीत सृजन प्रतियोगिता द्वितीय चरण माह :- (अप्रैल – 2022) अप्रैल माह का विषय:- जंग/युद्ध (युद्ध के भौतिक, आध्यात्मिक, मानसिक, प्रेम, करुणा, दया आदि किसी भी स्वरूप को गीत का आधार बनाया जा सकता

पूरी सूचना पढ़ें »

आखिल भारतीय युवा कहानीकार अलंकरण -2022 हेतु विज्ञप्ति

*विज्ञप्ति*   पत्रांक – अ16/क21/314 दिनांक – 31 जुलाई 2022   प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट के वरिष्ठ सलाहकार श्री पूरनचंद्र गुप्ता जी की पत्नी *श्रीमती निशा रानी गुप्ता स्मृति “आखिल भारतीय युवा कहानीकार अलंकरण -2022″* हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित हैं।   *अलंकरण राशि =11000₹*   नोट :- उपर्युक्त अलंकरण ट्रस्ट

पूरी सूचना पढ़ें »

पंचम गीतश्री अलंकरण-2023 के प्रथम चरण के तृतीय माह हेतु विषय संबंधी विज्ञापन

पत्रांक:- अ16/क21/315 दिनांक- 02/08/2022   *विज्ञप्ति* पाँचवे *सृजन श्री अलंकरण- 2023* हेतु आयोजित *सृजन* परंपरा गीत की *गीत सृजन प्रतियोगिता*   *प्रथम-चरण* *तृतीय-माह:-* (अगस्त – 2022) अगस्त माह का विषय:- *प्रेम पाश* गीत भेजने की अंतिम तिथि:- 20 अगस्त 2022   मूल्यांकन समिति अध्यक्ष/मुख्य निर्णायक *डॉ. अजिर बिहारी चौबे* (मनोविज्ञान

पूरी सूचना पढ़ें »

जुलाई माह की गीत प्रतियोगिता का परिणाम

प्रज्ञा हिंदी सेवा संस्थान ट्रस्ट फिरोजाबाद द्वारा आयोजित पाँचवी अखिल भारतीय गीत सृजन प्रतियोगिता – 2023 के प्रथम चरण के द्वितीय माह (जुलाई 2022) हेतु दिए गए गीत विषय *उपकार* पर प्राप्त प्रविष्टियों के मूल्यांकन के पश्चात प्राप्त परिणाम *कोड* *स्थान* 11 प्रथम 06 द्वितीय 04 तृतीय 09 तृतीय हस्ताक्षर

पूरी सूचना पढ़ें »

चतुर्थ सृजनश्री अलंकरण-2022″ हेतु आयोजित “सृजन परंपरा गीत की….गीत सृजन प्रतियोगिता” के द्वितीय चरण (अप्रैल-2022) का परिणाम

  सुकवि मथुरा प्रसाद मानव स्मृति “चतुर्थ सृजनश्री अलंकरण-2022” हेतु आयोजित “सृजन परंपरा गीत की….गीत सृजन प्रतियोगिता” के द्वितीय चरण (अप्रैल-2022) का परिणाम विषय – युद्ध प्रथम – कोड संख्या – 2 शब्द शब्द सँजीवनी मेरे , मैं जीवन लौटाता हूँ , समर भूमि में अड़ा हुआ हूँ , राग

पूरी सूचना पढ़ें »

विज्ञप्ति- चतुर्थ सृजन श्री अलंकरण- 2022 हेतु आयोजित सृजन परंपरा गीत की गीत सृजन प्रतियोगिता- द्वितीय चरण

पत्रांक:- अ16/क21/299 दिनांक- 01/04/2022 विज्ञप्ति चतुर्थ सृजन श्री अलंकरण- 2022 हेतु आयोजित सृजन परंपरा गीत की गीत सृजन प्रतियोगिता द्वितीय चरण माह :- (अप्रैल – 2022) अप्रैल माह का विषय:- जंग/युद्ध (युद्ध के भौतिक, आध्यात्मिक, मानसिक, प्रेम, करुणा, दया आदि किसी भी स्वरूप को गीत का आधार बनाया जा सकता

पूरी सूचना पढ़ें »